नई दिल्ली: आज देश-दुनिया में हिंदी दिवस मनाया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को हिंदी दिवस के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी और कहा कि हिंदी देश को एकता की डोर में बांधने का काम कर सकती है. AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हिंदी दिवस पर एक विवादित ट्वीट किया. उन्‍होंने कहा कि भारत हिंदी, हिंदू और हिंदुत्‍व से कहीं अधिक बड़ा है. ओवैसी के ट्वीट पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने पलटवार किया है.

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा, "अमित शाह जी ने एक देश एक भाषा की बात कही है वो बिलकुल सही है लेकिन ओवैसी जैसे लोगों के ज़ेहन में जिन्ना का जिन्न बसता है. वो राष्ट्रीयता की बात क्या करेंगे. ओवैसी वही हैं जो सदन में राष्ट्रीयता, 370, कॉमन सिविल कोड की बात होने पर वहां से निकल जाते हैं. जब भी एक भारत की बात आती है तब जिन्ना का जिन्न निकलकर इनके चेहरे और इनकी जुबान पर निकलकर आ जाता है."

इससे पहले, ओवैसी ने अपने ट्वीट में कहा, "हिंदी सभी भारतीयों की मातृभाषा नहीं है. क्‍या आप लोग देश में बोली जाने वाली अन्‍य मातृभाषाओं की विविधता और सौंदर्य की प्रशंसा करने की कोशिश कर सकते हैं. आर्टिकल 29 हर भारतीय को अलग भाषा, स्क्रिप्‍ट और संस्‍कृति का अधिकार देता है."

Hindi isn't every Indian's "mother tongue". Could you try appreciating the diversity & beauty of the many mother tongues that dot this land? Article 29 gives every Indian the right to a distinct language, script & culture.

India's much bigger than Hindi, Hindu, Hindutva https://t.co/YMVjNlaYry

— Asaduddin Owaisi (@asadowaisi) September 14, 2019

हिंदी दिवस पर पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
मोदी ने टि्वटर पर कहा, "हिंदी दिवस पर आप सभी को बहुत-बहुत बधाई. भाषा की सरलता, सहजता और शालीनता अभिव्यक्ति को सार्थकता प्रदान करती है. हिंदी ने इन पहलुओं को खूबसूरती से समाहित किया है."

अमित शाह ने ट्वीट किया, "आज हिंदी दिवस के अवसर पर मैं देश के सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि हम अपनी- अपनी मातृभाषा के प्रयोग को बढाएं और साथ में हिंदी भाषा का भी प्रयोग कर देश की एक भाषा के पूज्य बापू और लौह पुरूष सरदार पटेल के स्वप्न को साकार करने में योगदान दें."