प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका जाने वाले हैं और कयास लगाए जा रहे हैं कि उस दौरान डोनाल्ड ट्रंप भी उनके किसी कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं. इस मसले को लेकर भारत और अमेरिका के बीच बातचीत चल रही है. माना जा रहा है कि इस दौरान दोनों देश कई व्यापारिक घोषणाएं करेंगे. सूत्रों का कहना है कि ट्रंप ह्यूसटन में पीएम मोदी के कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं.

अमेरिका में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम 'Howdy Modi' में डोनाल्ड ट्रंप भी शामिल हो सकते हैं. 22 सितंबर को ह्यूस्टन में पीएम मोदी भारतीय समुदाय को संबोधित करेंगे. इस कार्यक्रम में 50 हजार से ज्यादा लोगों के मौजूदगी की संभावना है.

बता दें कि पीएम मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में शामिल होने के लिए अमेरिका जा रहे हैं. 'Howdy' ‘हाऊ डू यू डू' (आप कैसे हैं) का संक्षिप्त रूप है. अमेरिका के चौथे सबसे अधिक आबादी वाले शहर के ‘एनआरजी फुटबॉल स्टेडियम' में आयोजित हो रहे इस कार्यक्रम में करीब 50 हजार लोगों के आने की संभावना है. ह्यूस्टन में पांच लाख से अधिक भारतीय-अमेरिकी समुदाय के लोग रहते हैं.

'हाउडी मोदी' कार्यक्रम के लिए कम से कम 50,000 भारतीय-अमेरिकियों ने कार्यक्रम में भाग लेने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है. इसमें कई अन्य अमेरिकी राजनेताओं के भी भाग लेने की संभावना है. मोदी की रैली में ट्रंप का शामिल होना पाकिस्तान के लिए ऐसे समय में एक झटका होगा, जब वो लगातार अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के खिलाफ आवाज उठा रहा है.

पाकिस्तान को लगेंगे झटके
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भाग लेने से पहले ह्यूस्टन का दौरा करेंगे. यहां पर वह प्रमुख व्यवसायी, राजनीतिक और सामुदायिक नेताओं से मिलेंगे. इससे पहले पीएम मोदी ने 2014 में न्यूयॉर्क के मैडिसन स्क्वायर गार्डन और 2016 में सिलिकॉन वैली में भारतीय डायस्पोरा को संबोधित किया था.

पीएम मोदी संयुक्त राष्ट्र जनरल असेंबली के वार्षिक उच्चस्तरीय सम्मेलन को संबोधित करेंगे. पीएम मोदी के संबोधन के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का संबोधन होगा. इमरान खान एक बार फिर से इस मंच से कश्मीर का मुद्दा उठा सकते हैं. लेकिन माना जा रहा है कि ह्यूस्टन की रैली में अगर डोनाल्ड ट्रंप पीएम मोदी के कार्यक्रम में शामिल होते हैं तो इससे पाकिस्तान को बड़ा झटका लगेगा.