साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत को तीसरे टी-20 मैच में हार का सामना करना पड़ा. जिसके बाद एक बार फिर महेंद्र सिंह धोनी के उत्तराधिकारी माने जा रहे ऋषभ पंत पर सवाल खड़े हो गए हैं. महेंद्र सिंह धोनी के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ब्रेक लेने के बाद से पंत टीम के मुख्य विकेटकीपर के तौर पर खेल रहे हैं, लेकिन वह लगातार विफल हो रहे हैं.

ऋषभ पंत रविवार को साउथ अफ्रीका के खिलाफ बेंगलुरु में खेले गए तीसरे टी-20 मैच में 19 रन बनाकर आउट हो गए. इससे पहले बुधवार को मोहाली में खेले गए दूसरे टी-20 मैच में पंत नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने के लिए उतरे और सिर्फ 4 रन बनाकर आउट हो गए.

ऋषभ पंत की क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में लगातार नाकामी के बाद चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने भी उन्हें इशारों ही इशारों में वॉर्निंग दे दी थी. बीसीसीआई की चयन समिति के मुख्य चयनकर्ता एम.एस.के. प्रसाद ने कहा था कि वह ऋषभ पंत के विकल्प के तौर पर ईशान किशन, संजू सैमसन और अन्य विकेटकीपरों पर निगाहें रखे हुए हैं.

इससे पहले ऋषभ पंत को लेकर मुख्य कोच रवि शास्त्री ने पहले ही साफ कर दिया था कि यह विकेटकीपर बल्लेबाज अपनी गलतियों को लगातार नहीं दोहरा सकता और अगर ऐसा किया तो खामियाजा भुगतना होगा. टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने भी कहा था कि ऋषभ पंत अगर वेस्टइंडीज दौरे के दौरान की गईं गलतियों को दोहराते रहेंगे, तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा.

...जब बेंगलुरू में नंबर-4 पर उतरने के लिए एक साथ उठ खड़े हुए पंत और अय्यर

लेकिन ऋषभ पंत को भारतीय टीम के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर का साथ मिला है. गौतम गंभीर ने ऋषभ पंत को लेकर की गई टीम मैनेजमेंट की टिप्पणी की कड़ी आलोचना की है.

गौतम गंभीर ने कहा है कि यह देखना निराशाजनक और हताश करने वाला रहा कि टीम मैनेजमेंट ऋषभ पंत के लिए फीयरलेस से केयरलेस जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर रहा है. मुझे नजर आ रहा है, ऋषभ पंत रन बनाने की बजाय अपनी जगह पक्की करने के लिए खेलते दिख रहे हैं.

गौतम गंभीर ने टाइम्स ऑफ इंडिया में लिखे एक लेख में कहा कि किसी युवा बल्लेबाज को संभालने का यह तरीका सही नहीं है. टीम मैनेजमेंट ऋषभ पंत को लगातार चौथे नंबर पर मौके दे रहा है, लेकिन पंत अभी तक इस क्रम पर नियमित रूप से अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब साबित नहीं हुए हैं.

कप्तान विराट कोहली ने भी कहा था कि युवाओं को 4-5 मौकों का लाभ उठाकर ही खुद को साबित करना होगा. जबकि बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ ने भी पंत के रवैये पर सवाल खड़े किए थे.

बता दें कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टी-20 सीरीज का दूसरा मुकाबला सात विकेट से जीतने के बाद टीम इंडिया को तीसरे टी-20 में 9 विकेट की करारी शिकस्त झेलनी पड़ी. धर्मशाला में पहला टी-20 मैच बारिश की भेंट चढ़ गया था. तीन मैचों की सीरीज 1-1 की बराबरी पर खत्म हुई.